दहेज के लिए हैवान पति ने पत्नी और 3 माह के मासूम की चाकू घोंपकर की हत्या

add

बिहार। नवगछिया के खरीक थाना क्षेत्र के कठेला में गुरुवार की देर रात दहेज नहीं देने पर धीरज ठाकुर ने अपनी पत्नी देवता देवी (22) की पेट में चाकू घोंपकर निर्मम हत्या कर दी। मां की चीख सुनकर साथ में सोये तीन माह के बेटे अमरजीत जब जगकर जोर-जोर से रोने लगा तो आक्रोशित होकर पिता ने उस मासूम के पेट में चाकू घोंप दिया। जिससे वह बुरी तरह से घायल हो गया।

बच्चे की भी इलाज के दौरान मौत हो गयी। महिला की चीख सुनकर नीचे के कमरे में सोये परिवार के सदस्य दौड़कर ऊपर आये। इसी दौरान आरोपी फरार हो गया। हालांकि पुलिस ने पति धीरज ठाकुर को कठेला गांव के समीप ही देर रात गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त धारदार हथियार भी बरामद कर लिया।

यह भी देखें – 70 वर्षीय बुजुर्ग ने 13 साल की नाबालिग लड़की को बनाया अपने हवस का शिकार

एसडीपीओ दिलीप कुमार ने कहा कि घटना का कारण दहेज बताया जा रहा है। मामले की प्राथमिकी परिजनों के बयान पर दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। मामले की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने इलाज के लिए बच्चे को खरीक पीएचसी लाया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक ने मायागंज अस्पताल भागलपुर रेफर कर दिया। जहां इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई।

आरोपी ने अपने दो मंजिले मकान पर बने एक कमरे में इस घटना को अंजाम दिया। घटना की जानकारी पर शुक्रवार को मृतका के मायके वाले कठेला पहुंचे। जिसके बाद पुलिस ने कागजी प्रकिया पूरी कर शव को पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडलीय अस्पताल भेजा। वहीं थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने बताया कि घटना को लेकर मृतक महिला की मां खगड़िया के भरतखंड निवासी माला देवी के बयान पर पति समेत तीन लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

दो लाख रुपये दहेज की कर रहा था मांग

मृतका की मां माला देवी ने बताया कि कठेला निवासी शंभु ठाकुर के पुत्र धीरज ठाकुर से दो वर्ष पूर्व 2019 में बेटी की शादी हुई थी। इसके बाद एक साल तक सबकुछ बहुत अच्छा रहा। फिर दामाद बेटी पर मायके से दो लाख रुपये दहेज लाने का दवाब बनाने लगा। जिसको लेकर अक्सर बेटी के साथ मारपीट करता था।

यह भी देखें – दिल दहलाने वाली घटना: पत्नी और 2 बच्चों की हत्या करने के बाद प्रोफेसर हुआ फरार

जबकि मैंने शादी के वक्त बेटी को उपहार स्वरूप एक लाख रुपये नगद सहित जेवरात और घरेलू फर्नीचर दिया था। इधर, स्थानीय ग्रामीणों की मानें तो आरोपी शराबी है और हमेशा नशे में धुत रहता है। कोई काम-धाम नहीं करता है। अक्सर वह पत्नी को पीटता था। उसे कई बार समझाया भी गया था। किन्तु वह अपनी हरकत से बाज नहीं आया और पत्नी की जान ले ली।

बेटे को मिले फांसी की सजा

आरोपी के पिता शंभु ठाकुर ने कहा कि मेरे बेटे ने नशा पूरा करने के लिए मेरी बहू से पैसे की मांग किया करता था। नहीं देने पर उसके साथ मारपीट करता था। मेरे बेटे को फांसी की सजा दी जाए।

Share This